Monday, January 3, 2011

धुंधली यादें

Stumble del.icio.us Reddit MyWeb! Facebook Google bookmark

ज़िंदगी छितरा गयी है
चीथरों में गुम गयी
 लाल सुर्ख होठों की यादें
 धुंधली सी हो गयी

इक बरस है और बीता
बिन तेरे प्रेमी सखा
सर्द रातें दिल को छेदें
ज्यों अमावस की घटा

0 comments:

Post a Comment

Leave your opinion and let me know how you felt ...